Showing posts with label charity. Show all posts
Showing posts with label charity. Show all posts

Sunday, April 19, 2020

Help Your Brother in Time of Need


हमेशा अपने भाई की मदद करें
अल्लाह ने कहा, "दूसरों के लिए अच्छा बनो, क्योंकि अल्लाह उन लोगों से प्यार करता है जो अच्छे हैं।"
पैगंबर सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम  ने उस पर कहा, "मेरे भाई के साथ चलने के लिए उसकी जरूरत पूरी करने के लिए जब तक यह पूरा नहीं हो जाता है, यह मेरे लिए  लिए एक  महीने की मस्जिद में इत्तेफाक (रहना) करने की तुलना में अधिक प्रिय है!"
उन्होंने यह भी कहा, "जो अपने भाई की ज़रूरत में मदद करता है, अल्लाह जरूरत पड़ने पर उसकी मदद करता है।"
अल्लाह के रसूल सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम ने कहा  जब रस्ते पर एक गुलाम -लड़की उसे रोकते हुए कहेगी, "मुझे तुम्हारी मदद की ज़रूरत है।" वह उसके साथ तब तक रहेंगे जब तक वह उसकी ज़रूरतों को नहीं सुन लेंगे । वह उसके साथ उसके आका के पास  जाएगी। उसकी जरूरतों को पूरा करने के लिए मदत करेंगे । वास्तव में, पैगंबर सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम  लोगों के साथ घुल-मिल जाते थे और उनके सवाल और बर्ताव  पर संयम रखते थे।




वह उन सभी के साथ एक रहमत थे , अश्रुपूरित नेत्र, एक उपदेशात्मक जीभ और एक प्रेमपूर्ण हृदय के साथ व्यवहार करते थे। " महसूस करेंगे कि वह हर शख्स की जरूरतों को समझते थे।
वह गरीब आदमी की गरीबी, दुःखी व्यक्ति के दुःख, बीमार आदमी की बीमारी और जरूरतमंद व्यक्ति की जरूरतों को महसूस करेगा।

जरा देखिए, कैसे वह अपने साथियों से बात करते हुए मस्जिद में कैसे बैठे है , वह दूर से उसके पास आने वाले लोगों के एक समूह को देख सके । उन्होंने कहा कि वे नजद की दिशा में दूर से आने वाले गरीब लोगों का समूह थे। अपनी अत्यधिक गरीबी के कारण, उन्होंने सफेद और काली धारियों वाले ऊन से बने वस्त्र पहने थे। उनमें से कुछ कपड़े का एक टुकड़ा मिल जाएगा, लेकिन यह एक साथ सिलाई करने के लिए एक सुई और धागा खरीदने के लिए पैसा नहीं होगा। इसलिए, वे इसे बीच से फाड़ देंगे, छेद के माध्यम से अपने सिर को थपथपाएंगे, और परिधान को गिरने और उनके शरीर को ढंकने की अनुमति देंगे। वे ऐसे वस्त्र पहन कर आए थे, जिनके गले में तलवारें लटक रही थीं।
उनके पास कोई निचला वस्त्र, पगड़ी या लबादा नहीं था।



जब पैगंबर सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम ने उस पर देखा कि वे कितना कठिन संघर्ष कर रहे थे और उनके पास पहनने या खाने के लिए कुछ भी नहीं था, तो उनका रंग बदल गया। वह खड़े  हो गए  और अपने घर चला गया लेकिन दान में देने के लिए कुछ भी नहीं पा सका। वह छोड़ दिया और अपने दूसरे घरों में से एक में प्रवेश किया, कुछ देने की तलाश में, लेकिन वहां भी कुछ भी नहीं मिला।
फिर वह मस्जिद गया, उसने जोहर  की प्रार्थना।  उन्होंने अल्लाह का शुक्रिया अदा किया और कहा,
"अल्लाह ने अपनी पुस्तक में कहा है: सूरह निसा
﴾ 1 ﴿ हे मनुष्यों! अपने[1] उस पालनहार से डरो, जिसने तुम्हें एक जीव (आदम) से उत्पन्न किया तथा उसीसे उसकी पत्नी (हव्वा) को उत्पन्न किया और उन दोनों से बहुत-से नर-नारी फैला दिये। उस अल्लाह से डरो, जिसके द्वारा तुम एक-दूसरे से (अधिकार) मांगते हो तथा रक्त संबंधों को तोड़ने से डरो। निःसंदेह अल्लाह तुम्हारा निरीक्षक है।
यहाँ से सामाजिक व्यवस्था का नियम बताया गया है कि विश्व के सभी नर-नारी एक ही माता पिता से उत्पन्न किये गये हैं। इस लिये सब समान हैं। और सब के साथ अच्छा व्यवहार तथा भाई-चारे की भावना रखनी चाहिये। यह उस अल्लाह का आदेश है जो तुम्हारे मूल का उत्पत्तिकार है। और जिस के नाम से तुम एक दूसरे से अपना अधिकार माँगते हो कि अल्लाह के लिये मेरी सहायता करो। फिर इस साधारण संबंध के सिवा गर्भाशयिक अर्थात समीपवर्ती परिवारिक संबंध भी हैं, जिन्हें जोड़ने पर अधिक बल दिया गया है। एक ह़दीस में है कि संबंध-भंगी स्वर्ग में नहीं जायेगा। (सह़ीह़ बुख़ारीः5984, मुस्लिमः2555) इस आयत के पश्चात् कई आयतों में इन्हीं अल्लाह के निर्धारित किये मानव अधिकारों का वर्णन किया जा रहा है।
सूरह मायदा ५
﴾ 8 ﴿ हे ईमान वालो! अल्लाह के लिए खड़े रहने वाले, न्याय के साथ साक्ष्य देने वाले रहो तथा किसी गिरोह की शत्रुता तुम्हें इसपर न उभार दे कि न्याय न करो। वह (अर्थातः सबके साथ न्याय) अल्लाह से डरने के अधिक समीप[1] है। निःसंदेह तुम जो कुछ करते हो, अल्लाह उससे भली-भाँति सूचित है।
1. ह़दीस में है कि नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने कहाः जो न्याय करते हैं, वे अल्लाह के पास नूर (प्रकाश) के मंच पर उस के दायें ओर रहेंगे, – और उस के दोनों हाथ दायें हैं- जो अपने आदेश तथा अपने परिजनों और जो उन के अधिकार में हो, में न्याय करते हैं। (सह़ीह़ मुस्लिमः1827)

﴾ 9 ﴿ जो लोग ईमान लाये तथा सत्कर्म किये, तो उनसे अल्लाह का वचन है कि उनके लिए क्षमा तथा बड़ा प्रतिफल है





उन्होंने अधिक छंआयात  का पाठ किया, विश्वासियों को बुलाया और ऊंची आवाज में कहा, "दान में दें इससे पहले कि आप इसे अब और देने में असमर्थ हों! आपको ऐसा करने से रोकने से पहले दान में दें!" एक आदमी ने अपने दीनार से दान दिया, दूसरे ने अपने दिरहम से दिया, दूसरे ने अपने गेहूं से दिया और दूसरे ने अपने जौ से दिया। उन्होंने आगे कहा, "आप में से जो भी आप दान में देते हैं, उनमें से किसी को भी कमतर  न होने दें: 'उसने उन विभिन्न वस्तुओं का उल्लेख करना शुरू कर दिया, जिन्हें लोग दान में दे सकते हैं, जब तक कि वह उल्लेख न करें," ... भले ही यह एक खजूर  थी। " अंसार  के हाथ में एक सामान था, ओह उठा , और, अल्लाह नबी सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम  ने उस को थाम लिया,  उसे लिया, खुशी की भावना उसके ऊपर स्पष्ट थी।
उन्होंने कहा, "जो कोई भी अच्छा काम शुरू करता है और उसके अनुसार कार्य करता है, उसके पास इनाम के साथ-साथ जो भी व्यक्ति उस अभ्यास के अनुसार काम करता है, उसके इनाम में कोई कमी नहीं होगी। और जो कोई भी बुरा अभ्यास शुरू करता है और उसके अनुसार कार्य करता है, वह। इसके बोझ को कम करने के साथ-साथ उन सभी के बोझ के साथ-साथ इसके बोझ को भी कम किया जाएगा।
लोग उठे, अपने घरों के लिए रवाना हुए और दान लेकर लौटे। एक दीनार के साथ आया, दूसरा एक दिरहम के साथ आया, दूसरा खजूर के साथ आया, जबकि दूसरे कपड़े के साथ आए, जब तक पैगंबर शांति के सामने दो ढेर जमा नहीं हुए, भोजन का ढेर और कपड़ों का ढेर। जब पैगंबर शांति ने उस पर ध्यान दिया, तो उसका चेहरा चाँद की तरह चमक उठा। फिर उन्होंने इसे गरीब लोगों में बाँट दिया।
नबी सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम  लोगो की जरूरतों को पूरा करके लोगों के दिलों में प्रवेश करते थे। वह अपनी ताकत, समय और अपनी दौलत उनकी खातिर खर्च करते थे।
जब आइशा राजी अल्लाह से पूछा की अल्लाह के रसूल सलल्लाहो अलैहि वस्सलाम  घर पर पैगंबर के व्यवहार के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा, "वह या तो अपने परिवार के सदस्यों की जरूरतों को पूरा कर रहे होंगे, या उनकी सेवा करेंगे।"
क्या आप अपनी जरूरतों को पूरा करके लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाना नहीं चाहेंगे?






Tuesday, April 14, 2020

True Story of Sadqah Abdul Rahman Bin Auf


आज मैं एक ऐसा तारीख से बताता हु। 
बात उस वक़्त की है जब, उम्र रजि  अल्लाह खलीफा थे और मदीना में बदतरीन कहद ( Draught ) था। अब्दुल रहमान बिन ऑफ रजि अल्लाह का तिजारती काफिला आ रहा था।  तकरीबन ५०० से ७०० ऊंट इस काफिले में थे। खाने का सामान था इसमें। जब काफिला मदीने से करीब पंहुचा तो लोगो ने बड़ी कीमत पर उसे खरीदना चाहा और अब्दुल रहमान बिन ऑफ रजि अल्लाह ने मना कर दिया। 
इस बहोत बड़े काफिले का मदीना के गलियों में शोर हुआ तो अम्मा आयेशा रजि अल्लाह ने पूछा की यह किस चीज़ का शोर है , खद्दामा ने बताया की अबुल रहमान  बिन ऑफ रज़ि अल्लाह का तिजारती काफिला आया है।
अम्मा आयेशा रज़ि अल्लाह ने फ़रमाया , मैंने अल्लाह  रसूल सल्ललाहो  अलैहि वस्सलाम से सुना है जिस तरह यह काफिला मदीने में  आवाज करता हसी ख़ुशी आ रहा है और हर तरफ उसे खुश आमदीद कहा जा रहा है उसी तरह  अब्दुल रहमान बिन ऑफ रज़ि  अल्लाह जन्नत में दाखिल होंगे।  ( लिट्रल ट्रांसलेशन) यह बात किसी ने अब्दुल रहमान रज़ि अल्लाह को बताई , और जब उन्होंने सूनी  अम्मा आयेशा रज़ि अल्लाह के पास आये और बात की तस्दीक़ की , और जन्नत बशारत की ख़ुशी में अपना पूरा काफिला बैतूल माल को सदक़ा किया ताकि गरीबो  में तक़सीम किया जा सके।
क़ुरान में अल्लाह अज्जो व जल्लो फरमाता है ,
इसमें तो शक ही नहीं कि ख़ुदा ने मोमिनीन से उनकी जानें और उनके माल इस बात पर ख़रीद लिए हैं कि (उनकी क़ीमत) उनके लिए बेहष्त है  जन्नत  ९:१११
भाइयो हम सख्त हालात से गुजर  रहे है , इस दौर में अपने हिसाब से अपने भाई की मदद करे , कोई भी भूखा नहीं सोये , कोई बच्चा खाने की लिए नहीं रोये इसका पूरा ख्याल रखे। 
ज्यादा से ज्यादा सदक़ह करे, अल्लाह का वादा है  , वह दुनिया और आख़िरत बेहतर अजर ने नवाजेगा, अल्लाह के खजाने में कोई कमी नहीं है  , आप दिल खोल के खर्च करे।
क़ुरान और अपने एहद का पूरा करने वाला ख़़ुदा से बढ़कर कौन है तुम तो अपनी ख़रीद फरोख़्त से जो तुमने ख़़ुदा से की है खुषियाँ मनाओ यही तो बड़ी कामयाबी है (९:111)

Monday, November 19, 2012

Friend in Need, Friend Indeed

http://www.ventureart.biz

Always Help Your Brother
 Allah said, "Be good to others, for Allah loves those who are good."
The Prophet Peace Be Upon Him said, "For me to walk with my brother to fulfill his need Until it is fulfilled is more beloved to me than making it’ikaf ( staying ) in this mosque of mine for a month!"
He also said, "The one who helps his brother in need, Allah helps him when he is in need."
The Prophet Peace Be Upon Him would be walking in the street and a slave-girl would stop him, saying, “I need your help." He would remain with her until he would hear her needs. He would then go with her to her master to fulfill her needs. In fact, the Prophet Peace Be Upon Him used to mix with people and have patience over their harms. He used to treat them all with a merciful soul, tearful eyes, a preaching tongue and a loving heart. He would feel that he and others were one body. He would feel the poor man's poverty, the sad person's grief, the ill man's disease and the needy one's needs.
Just look at how, as he sat in his mosque speaking to his Companions, he would see a group of people coming to him from afar. He wouldnotice that they were a group of poor people coming from Mudhar in the direction of Najd. Due to their extreme poverty, they were wearing garments made of wool having white and black stripes. Some of them would find a piece of cloth, but wouldn't have the money to buy a needle and thread in order to stitch it together. Therefore, they would tear it from the middle, poke their heads through the hole, and allow the garment to fall and cover their bodies. They had come wearing such garments, with their swords hanging around their necks.
They did not have any lower garments, turbans, or cloaks.
When the Prophet Peace Be Upon Him saw how hard they were struggling and that they had nothing to wear or eat, his complexion changed. He stood up and went off to his house but couldn't find anything to give in charity. He left and entered another one of his houses, looking for something to give, but couldn't find anything there either.
He then went to the mosque, prayed the Dhuhr prayer and climbed up to the pulpit. He thanked and praised Allah and said,
"To proceed, Allah has said in His Book:
'0 mankind! Be careful of your duty to your Lord Who created you from a single soul and from it created its mate and from them two has spread abroad a multitude of men and women. Be careful of your duty toward Allah in Whom you claim (your rights) of one another, and toward the wombs (that bear you).
Indeed! Allah has been a watcher over you:
He then recited: '0 you who believe! Observe your duty to Allah. And let every soul look to that which it sends on before for the tomorrow. And observe your duty to Allah. Indeed! Allah is Aware of what you do: He recited more verses, admonished the believers and said in a loud voice, "Give in charity before you are unable to give it anymore! Give in charity before you are prevented from doing so!" A man gave charity from his Dinar, another gave from his Dirham, another gave from his wheat and another gave from his barley. He further said, "Let no one of you belittle whatever you give in charity:' He began to mention the various items people may give in charity until he mentioned," ... even if it were a piece of date." A man from the Ansaar rose with a package in his hand, and, the Messenger of Allah Peace Be Upon Him took hold of it while he was on the pulpit. When the Prophet Peace Be Upon Him took it, a sense of joy was apparent on his face.
He said, "Whoever initiates a good practice and acts accordingly he will have its reward along with the reward of anyone who acts according to that practice, without there being any decrease in their reward. And whoever initiates a bad practice and acts accordingly, he will bear its burden along with the burden of all those who act according to it, without there being any decrease in their burdens."
The people got up, left for their homes and returned with charity. One came with a Dinar, another came with a Dirham, another came with dates whilst another came with clothes, until two piles accumulated in front of the Prophet Peace Be Upon Him a pile of food and a pile of clothes. When the Prophet Peace Be Upon Him saw this, his face brightened like the moon. He then divided it up amongst the poor people. (Muslim) Yes! The Prophet Peace Be Upon Him used to enter people's hearts by fulfilling their needs. He would spend his strength, time and his wealth for their sake.
When ‘A’ishah RadiAllah Unha was asked about the Prophet's behavior at home, she said, "He would either be fulfilling the needs of his family members, or serving them."
Wouldn't you like to make your way into people's hearts by fulfilling their needs?

http://www.ventureart.biz

Tuesday, October 23, 2012

Generous Ruler Umar Bin Abdul Aziz


Umar bin Abdul Aziz – Generous Rules
During the caliphate of 'Umar bin 'Abdul-'Aziz, a woman traveled from Iraq to come and meet him. "When she arrived at his abode, she asked whether there was a guard to prevent people from going inside to meet him. They told her, "No, enter if you wish." The woman entered and saw Fatimah, the wife of 'Umar. She was sitting down at the time, spinning some cotton. The woman extended greetings of peace; Fatimah returned the greetings and told her to come inside.
As soon as the woman sat down, she began to look around, and was surprised to find that there was nothing of value or of importance in the house. Without realizing that she was speaking out loud, she said, "I carne to build and furnish my house from this house, which I have found to be empty and barren." Fatimah said, "The emptiness and barrenness of this house allows for the construction and adornment of houses such as YOllIS."
'Umar entered the house, gave greetings of peace, and then asked his wife about the woman. He took out a bunch of grapes, chose the best ones, and gave them to his . wife, so that she could then offer them to the visitor. He then approached her and asked, "What is your need?"
She said, "I am a woman from the inhabitants of Iraq, and I have five daughters who cannot work and who have with them no material possessions. I came to you hoping that you might be willing to help them." Be began to cry, took out his inkstand and papers, and wrote a letter to the governor of Iraq. He asked the woman the name of her eldest daughter, and when she told him, he wrote down an amount that was to be given to her. Upon realizing that, the woman praised Allah (the Exalted), he then asked her the names of her second, third, and fourth daughters. The woman informed him and praised Allah. "When she realized that he had bestowed money upon all of them, she became so happy that she supplicated for him.
She left his house with the paper that she was to give to the governor of Iraq, and after a long travel, when she reached her home; she went to the governor to give him the piece of paper. "When she gave it to him, he began to cry for a long time, and then he said, "May Allah have mercy on the writer of this letter." She said, "Has news come to you of his death?" He said' "Yes.” She screamed but he told her not to worry, and that he going to give the allotted portion to her in any case.