Saturday, May 30, 2020

Allah Hame Maaf Kar De

ओह अल्लाह सबसे महत्वपूर्ण और सबसे दयालु हमें हमारे पाप के लिए क्षमा करता है।

"परवरदिगार बेशक तू बड़ा शफीक़ निहायत रहम वाला है" [कुरान 59:10]
"हमारे परवरदिगार अगर हम भूल जाऐं या ग़लती करें तो हमारी गिरफ़्त न कर" [कुरान 2:286]
"ऐ हमारे पालने वाले (ख़ुदा) हमने तुझी पर भरोसा कर लिया है और तेरी ही तरफ़ हम रूजू करते हैं" [कुरान 60:4]
"और तेरी तरफ़ हमें लौट कर जाना है ऐ हमारे पालने वाले तू हम लोगों को काफि़रों की आज़माइश (का ज़रिया) न क़रार दे और परवरदिगार तू हमें बख़्ष दे बेशक तू ग़ालिब (और) हिकमत वाला है" [कुरान 60:5]
"परवरदिगार हमारे लिए हमारा नूर पूरा कर और हमं बख्श दे बेशक तू हर चीज़ पर क़ादिर है" [कुरान 66:8]
"और उसी ने आसमान बुलन्द किया और तराजू (इन्साफ़) को क़ायम किया"
"और ईन्साफ़ के साथ ठीक तौलो और तौल कम न करो"
[कुरान 55:7, 55:9]

अल्लाह ने इस दुनिया को संतुलन और न्याय में बनाया है लेकिन हमारे कामों ने इसे गड़बड़ कर दिया है। ये कर्म व्यक्तिगत जीवन, हमारे सामाजिक व्यवहार और हमारी आर्थिक और राजनीतिक गतिविधियों से भिन्न होते हैं। यदि हम देखते हैं कि वित्तीय संकट दुनिया में है, तो यह बहुत स्पष्ट उदाहरण है "। आज लोग जोखिम/नुकसान  को स्थानांतरित करना चाहते हैं, यह कभी भी काम नहीं करेगा। हम जो" वित्तीय संकट "में हैं, वह अंततः जोखिम/नुकसान  को साझा नहीं करने, बल्कि इसे स्थानांतरित करने का परिणाम है। दूसरे के लिए। यह इसलिए है क्योंकि हमने अपनी सीमाएं संतुलन और न्याय पर स्थानांतरित कर दी हैं। यदि हम बदलना चाहते हैं, तो हमें अपने जीवन को बदलने के लिए समग्र दृष्टिकोण की आवश्यकता है, और फिर दुनिया में केवल न्याय और शांति आ सकती है। यदि हम इस दुनिया को बदलना चाहते हैं। , यह पहले से ही आना चाहिए।
"तेरे सिवा कोई माबूद नहीं तू (हर ऐब से) पाक व पाकीज़ा है बेशक मैं कुसूरवार हूँ" [कुरान 21:87]
ऐ अल्लाह, तू रब्बुल आलमीन है, तू कायम है और सबसे रहमदिल है, हमें माफ़ कर दे, ज़रूर हम गुनह्गार हैं। सारी दौलत जो धरती के नीचे है और उससे ऊपर है वह सब आप के पास है और हम सब आपके पास वापस आ जाएंगे।

ऐ अल्लाह! मेरे दोषों को, मेरे अज्ञान को, मेरे मामलों में किसी भी तरह की अधिकता को क्षमा करें और जिसमें आपको मुझसे अधिक ज्ञान है। ऐ अल्लाह! मेरे पापों को माफ़ कर दो, जो गलती से हुए, जो जानबूझकर किए गए और वो सारी कमियाँ जो मेरे भीतर हैं।

"ये दोनों अर्ज़ करने लगे ऐ हमारे पालने वाले हमने अपना आप नुकसान किया और अगर तू हमें माफ न फरमाएगा और हम पर रहम न करेगा तो हम बिल्कुल घाटे में ही रहेगें" [कुरान 7:23]
इसपर वे बोले, "हमने अल्लाह पर भरोसा किया। ऐ हमारे रब! तू हमें अत्याचारी लोगों के हाथों आज़माइश में न डाल। (85)  (कुरान 10:85)
"और अपनी रहमत से हमें इन काफि़र लोगों (के नीचे) से नजात दे" [कुरान 10:86]

जो कहते हैं कि "ऐ हमारे रब! जहन्नम की यातना को हमसे हटा दे।" निश्चय ही उसकी यातना चिमटकर रहनेवाली है।(कुरान 25:65)
निश्चय ही वह जगह ठहरने की दृष्टि से भी बुरी है और स्थान की दृष्टि से भी।  (कुरान 25:66)
"और बेशक हमने फिरौन के लोगों को बरसों से कहत और फलों की कम पैदावार (के अज़ाब) में गिरफ्तार किया ताकि वह इबरत हासिल करें" [कुरान 7:130]
तब हमने उन पर (पानी को) तूफान और टिड़डियाँ और जुए और मेंढ़कों और खून (का अज़ाब भेजा कि सब जुदा जुदा (हमारी कुदरत की) निषानियाँ थी उस पर भी वह लोग तकब्बुर ही करते रहें और वह लोग गुनेहगार तो थे ही (कुरान 7:133)
"और (लूत को हमने रसूल बनाकर भेजा था) जब उन्होनें अपनी क़ौम से कहा कि (अफसोस) तुम ऐसी बदकारी (अग़लाम) करते हो कि तुमसे पहले सारी ख़़ुदाई में किसी ने ऐसी बदकारी नहीं की थी" (कुरान 7:80)
"हाँ तुम औरतों को छोड़कर शहवत परस्ती के वास्ते मर्दों की तरफ माएल होते हो (हालाकि उसकी ज़रूरत नहीं) मगर तुम लोग कुछ हो ही बेहूदा" [कुरान 7:81]
"और हमने उन लोगों पर (पत्थर का) मेह बरसाया-पस ज़रा ग़ौर तो करो कि गुनाहगारों का अन्जाम आखिर क्या हुआ" (कुरान 7:84)

"हम यक़ीनन इसी बस्ती के रहने वालों पर चूँकि ये लोग बदकारियाँ करते रहे एक आसमानी अज़ाब नाजि़ल करने वाले हैं" (कुरान 29:34)
"और हमने यक़ीनी उस (उलटी हुयी बस्ती) में से समझदार लोगों के वास्ते (इबरत की) एक वाज़ेए व रौशन निशानी बाक़ी रखी है" (कुरान 29:35)
हम आपके संसाधनों, खनिजों, तेल, गैस और उन सभी चीजों का उपयोग और दोहन करते हैं जो पृथ्वी के नीचे और पृथ्वी के ऊपर है, जंगल, समुद्र और पानी में हैं। लेकिन गरीबों को भूख और मौत से पीड़ित बनाते हैं।

गरीबी बढ़ रही है

[कुरान 107: 1-7] 
क्या तुमने उस शख़्स को भी देखा है जो रोज़ जज़ा को झुठलाता है (1)
ये तो वही (कम्बख़्त) है जो यतीम को धक्के देता है (2)
और मोहताजों को खिलाने के लिए (लोगों को) आमादा नहीं करता (3)
तो उन नमाजि़यों की तबाही है (4)
जो अपनी नमाज़ से ग़ाफिल रहते हैं (5)
जो दिखाने के वास्ते करते हैं (6)
और रोज़ मर्रा की मालूली चीज़ें भी आरियत नहीं देते (7)

विकास के अंत में गरीबी
एक अन्य व्यक्ति जो पुनर्विचार से इनकार करते हैं, वह यह है कि वे गरीबों और जरूरतमंदों को भोजन नहीं देते हैं और एक दूसरे से समाज के असहाय लोगों की मदद करने का आग्रह नहीं करते हैं। जिन मुसलमानों के पास साधन हैं उन्हें गरीबों और जरूरतमंदों को खिलाने और एक दूसरे को उनकी मदद करने के लिए प्रोत्साहित करने की आज्ञा दी गई है।
समाज के कमजोर सदस्यों की मदद करने के महान गुणों का वर्णन करते हुए, पैगंबर ने कहा: "जो एक विधवा या जरूरतमंद व्यक्ति की देखभाल करता है वह एक मुजाहिद (सेनानी) की तरह है जो अल्लाह के कारण के लिए लड़ता है, या जैसे जो सभी प्रार्थना करते हैं रात और पूरे दिन का उपवास। ” [अल-बुखारी द्वारा सुनाई गई]

भोजन दंगे
और अल-म'उन (छोटी दयालुता) को रोकें
इस आयत का मतलब यह है कि जो लोग आख़िरत से इनकार करते हैं, वे अल्लाह की अच्छी तरह से पूजा नहीं करते हैं, और न ही वे उनकी रचना को अच्छी तरह मानते हैं। वे यह भी उधार नहीं देते हैं कि दूसरों को किससे लाभ हो सकता है और उनके द्वारा मदद की जा सकती है, भले ही वह वस्तु बरकरार रहेगी और उन्हें लौटाया जाएगा (जैसे एक कुल्हाड़ी, एक बर्तन, एक बाल्टी और इसी तरह की वस्तुएं)। ये लोग ज़कात (अनिवार्य दान) और विभिन्न प्रकार के दान देने की बात करते हैं, जो अल्लाह के करीब लाति हैं। [तफ़सीर इब्न कथिर]

[कुरान 39:51] "ग़रज़ उनके आमाल के बुरे नतीजे उन्हें भुगतने पड़े और उन (कुफ़्फ़ारे मक्का) में से जिन लोगों ने नाफरमानियाँ की हैं उन्हें भी अपने अपने आमाल की सज़ाएँ भुगतनी पड़ेंगी और ये लोग (ख़ुदा को) आजिज़ नहीं कर सकते"
[कुरान 39:52] "क्या उन लोगों को इतनी बात भी मालूम नहीं कि ख़ुदा ही जिसके लिए चाहता है रोज़ी फराख़ करता है और (जिसके लिए चाहता है) तंग करता है इसमें शक नहीं कि क्या इसमें इमानदार लोगों के (कुदरत की) बहुत सी निशानियाँ हैं"

ये विश्वास करने वाले लोगों के लिए सबक हैं। पहला धन भी मानव जाति की प्रकृति के लिए बहुत आकर्षक है, इस प्रकार हर आदमी धन रखने के लिए उकसाता है जैसा कि अल्लाह कहता है,
 "दुनिया में लोगों को उनकी मरग़ूब चीज़े (मसलन) बीवियों और बेटों और सोने चाँदी के बड़े बड़े लगे हुए ढेरों और उम्दा उम्दा घोड़ों और मवेशियों ओर खेती के साथ उलफ़त भली करके दिखा दी गई है ये सब दुनयावी जि़न्दगी के (चन्द रोज़ा) फ़ायदे हैं और (हमेशा का) अच्छा ठिकाना तो ख़ुदा ही के यहां है" [कुरान 3:14]
मनुष्यों को चाहत की चीज़ों से प्रेम शोभायमान प्रतीत होता है कि वे स्त्रियाँ, बेटे, सोने-चाँदी के ढेर और निशान लगे (चुने हुए) घोड़े हैं और चौपाए और खेती। यह सब सांसारिक जीवन की सामग्री है और अल्लाह के पास ही अच्छा ठिकाना है। (14)  
गरीबों को खाना खिलाएं, उनकी मदद करें और आप बेहतर होंगे

चेतावनी: - सीमाओं के पार अत्याचार मत करो, उत्पीड़न, शोषण, अन्याय यहाँ और उसके बाद दंडित किया जाएगा। जो ताकतवर इस दुनिया में संतुलन को नष्ट करने के लिए उन पर धन का उपयोग कर रहे हैं और गरीब लोगों के जीवन में भूख है और अन्याय को दंडित किया जाएगा। यह आर्थिक या पारिस्थितिक हो सकता है।

Bachao Aapne Aap Ko Dojakh ki Aag Se

बचाएं अपने आप को और अपने परिवार को  जहन्नम आग से ।

ऐ ईमान लानेवालो! अपने आपको और अपने घरवालों को उस आग से बचाओ जिसका ईंधन मनुष्य और पत्थर होंगे, जिसपर कठोर स्वभाव के ऐसे बलशाली फ़रिश्ते नियुक्त होंगे जो अल्लाह की अवज्ञा उसमें नहीं करेंगे जो आदेश भी वह उन्हें देगा, और वे वही करेंगे जिसका उन्हें आदेश दिया जाएगा। [कुरान ६६: ६]

सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी हलाल की कमाई और परिवार के लिए हलाल खिलाना है। यदि आप असफल होते हैं तो हाँ  आख़िरत  के बारे में सोचें "इसके बाद" हलाल कमाएँ, हलाल खाएँ और हलाल खिलाएँ

जब मैं इस मामले और मुद्दों को गहराई से देखता हूं और गहराई मे जाता हूं, तो यह अधिक स्पष्ट  होता जा रहा है और मेरे लिए स्पष्ट है कि हराम समस्याओं का एक प्रमुख कारण है, हमारे दुआ का जवाब नहीं है और हमें सभी प्रकार की समस्याएं हैं। क्योंकि समाज ने हराम को हराम मानना बंद कर दिया, वे जीवन का हिस्सा बन गए।

आज जो हम लोग परेशांन  है , मुसीबत पे मुसीबत आ रही है , इसकी बूनयादि वजह हमारी ज़िन्दगी में हराम का इस्तेमाल है। 

हराम (निषिद्ध) हमारे जीवन में प्रवेश करता है

1. रिबा -  सूद - आधुनिक बैंक ब्याज समस्या पैदा करने वाले सबसे बड़े हराम में से एक है।

रिबा सूद  से निपटने के लिए सजा (ब्याज और बकाया)

और जो लोग ब्याज खाते हैं, वे बस इस प्रकार उठते हैं जिस प्रकार वह व्यक्ति उठता है, जिसे शैतान ने छूकर बावला कर दिया हो और यह इसलिए कि उनका कहना है, "व्यापार भी तो ब्याज के सदृश है," जबकि अल्लाह ने व्यापार को वैध और ब्याज को अवैध ठहराया है। अतः जिसको उसके रब की ओर से नसीहत पहुँची और वह बाज़ आ गया, तो जो कुछ पहले ले चुका वह उसी का रहा और मामला उसका अल्लाह के हवाले है। और जिसने फिर यही कर्म किया तो ऐसे ही लोग आग (जहन्नम) में पड़नेवाले हैं। उसमें वे सदैव रहेंगे।(275)

इब्न माजाह ने दर्ज किया कि अबू हुरैरा ने कहा कि अल्लाह के रसूल ने कहा, (रिबा सत्तर प्रकार के हैं, जिनमें से सबसे कम अपनी मां के साथ संभोग करने के बराबर है।) 

दो साहिह ने दर्ज किया कि अल्लाह के रसूल ने कहा, अली और इब्न मसउद ने कहा कि अल्लाह के रसूल ने कहा, (अल्लाह ने शाप दिया कि जो कोई रिबा को खाएगा, जो रिबा को अदा करेगा, जो दो उसके गवाह हैं, और मुंशी जो इसे रिकॉर्ड करते हैं।)

2. अल्लाह सूद ब्याज आशीर्वाद नहीं देता

खुदा सूद को मिटाता है और ख़ैरात को बढ़ाता है और जितने नाशुक्रे गुनाहगार हैं खुदा उन्हें दोस्त नहीं रखता (कुरान 2:276)

 निस्संदेह जो लोग ईमान लाए और उन्होंने अच्छे कर्म किए और नमाज़ क़ायम की और ज़कात दी, उनके लिए उनका बदला उनके रब के पास है, और उन्हें न कोई भय होगा और न वे शोकाकुल होंगे। (277)

 फिर यदि तुमने ऐसा न किया तो अल्लाह और उसके रसूल से युद्ध के लिए ख़बरदार हो जाओ। और यदि तौबा कर लो तो अपना मूलधन लेने का तुम्हें अधिकार है। न तुम अन्याय करो और न तुम्हारे साथ अन्याय किया जाए। (279) 

अल्लाह कहता है कि वह सूद/ब्याज को नष्ट कर देता है, या तो इस पैसे को उन लोगों से हटा देता है जो इसे खाते हैं, या उन्हें आशीर्वाद से वंचित करते हैं, और इस प्रकार उनके धन का लाभ होता है। उनके सूद/ब्याज के कारण, अल्लाह उन्हें इस जीवन में पीड़ा देगा और क़यामत के दिन उन्हें इसके लिए दंडित करेगा। 

अबू हुरैरा (रज़ियल्लाहु तआला अन्हु) से रिवायत है , हदीस क़ुद्सी है के, अल्लाह के रसूल सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम ने कहा: “अल्लाह अच्छा है और केवल वही स्वीकार करता है जो अच्छा है।

अल्लाह ने आस्थावान को वह करने की आज्ञा दी है जो उसने रसूलों को दिया था, और सर्वशक्तिमान ने कहा है "और मेरा आम हुक्म था कि ऐ (मेरे पैग़म्बर) पाक व पाकीज़ा चीज़ें खाओ और अच्छे अच्छे काम करो (क्योंकि) तुम जो कुछ करते हो मैं उससे बख़ूबी वाकि़फ हूँ" (कुरान 23:51)

और अल्लाह सर्वशक्तिमान ने कहा है: "ऐ ईमानदारों जो कुछ हम ने तुम्हें दिया है उस में से सुथरी चीज़ें (षौक़ से) खाओं और अगर ख़ुदा ही की इबादत करते हो तो उसी का शुक्र करो" (कुरान 2:172)

तब उन्होंने उल्लेख किया [एक आदमी का] जो दूर की यात्रा कर रहा है, वह निराश और धूल में डूबा हुआ है और जो आकाश में हाथ फैलाता है [कह रहा है]: हे प्रभु! हे प्रभु! उसका भोजन अवैध है, उसका पेय गैरकानूनी है, उसके कपड़े गैरकानूनी हैं, और वह गैरकानूनी रूप से पोषित है, इसलिए उसका उत्तर कैसे दिया जा सकता है!" (मुस्लिम)

एक शक्स जो बहोत दूर का सफर करके आया हो, जिसके कपडे सफर के वजह से गर्दालु हो गए हो , बहोत थका हुआ हो , और अल्लाह को पुकार रहा है ,ये अल्लाह , ये अल्लाह , मगर उसकी पुकार कैसी सुनी जाती जबकि उसका खाना हराम , उसका पहनना हराम उसकी सवारी हराम।



Saturday, May 23, 2020

Good Manner

अच्छे आदाब और किरदार

 

एक विश्वास करने वाला अल्लाह की इबादत करता है और सभी के साथ सुखद व्यवहार करता है, ताकि अल्लाह उसे प्यार करे और उसे अपनी रचना के लिए विशेष बना सके। जो कोई भी अच्छे शिष्टाचार को इबादत के रूप में मानता है, वह सभी के साथ विनम्रता से पेश आएगा, चाहे वह अमीर हो या गरीब, प्रबंधक या चाय वाला। यदि एक दिन सड़क पर एक सफ़ाईकार आपके आगे हाथ मिलाने के लिए अपना हाथ बढ़ाता है, और दूसरे दिन किसी कंपनी का एक निदेशक उसी तरह से अपना हाथ बढ़ाता है, तो क्या आप उनके साथ समान व्यवहार करेंगे? क्या आप उन दोनों का स्वागत करेंगे और उन्हें समान रूप से मुस्कुराएंगे? पैगंबर (स।अ।व) निश्चित रूप से उन दोनों का स्वागत करने और उन्हें ईमानदारी से आचरण और करुणा दिखाने के मामले में समान रूप से व्यवहार करेंगे। कौन जानता है, शायद आपके लिए जो छोटा है और नीचे निगाह रखता हो वास्तव में अल्लाह की दृष्टि में बेहतर हो सकता है, जिसे आप देखते हैं और सम्मान और सत्कार दिखाते हैं।

 

और बेशक तुम्हारे एख़लाक़ बड़े आला दर्जे के हैं (कुरान 68: 4)

यहाँ, इस वाक्य के दो अर्थ हैं:

(1) "जो आप एक उच्च और महान चरित्र के लिए खड़े हैं; यही कारण है कि आप लोगों को सही तरीके से मार्गदर्शन करने के अपने मिशन में इन सभी कठिनाइयों को सहन कर रहे हैं, अन्यथा कमजोर चरित्र का आदमी ऐसा नहीं कर सकता था;" () "कि कुरान के अलावा, आपका उच्च और महान चरित्र भी एक स्पष्ट प्रमाण है कि आपके खिलाफ अविश्वास लाने वाले पागलपन का आरोप बिल्कुल गलत है, क्योंकि उच्च नैतिकता और पागलपन एक और सह-अस्तित्व एक ही व्यक्ति में नहीं हो सकते हैं।"

एक पागल वह है जिसका दिमागी संतुलन परेशान है, जिसने अपना मनमौजी संतुलन खो दिया है। इसके विपरीत, किसी व्यक्ति की उच्च नैतिकता इस बात की गवाही देती है कि वह एक सही सोच वाला और स्वस्थ स्वभाव वाला व्यक्ति है, जिसके पास पूर्ण स्वभाव संतुलन है। मक्का के लोग अल्लाह के रसुल के पास मौजूद नैतिकता और चरित्र से अनजान नहीं थे। इसलिए, यह सिर्फ उनके लिए एक संदर्भ बनाने के लिए पर्याप्त था ताकि मक्का के प्रत्येक उचित व्यक्ति को यह सोचने के लिए कि वे कितने बेशर्म थे जो ऐसे उदात्त नैतिकता और चरित्र को एक पागल व्यक्ति बुला रहे थे। एक अन्य परंपरा में हज़रत '

आयेशा रजि अल्लाह ने कहा है: "पैगंबर (स।अ।व) ने एक नौकर को कभी नहीं मारा, कभी किसी महिला पर हाथ नहीं उठाया कभी भी युद्ध के मैदान के बाहर किसी व्यक्ति को मारने के लिए अपने हाथ का इस्तेमाल नहीं किया, कभी भी किसी चोट के लिए खुद को बदला नहीं। जब तक किसी ने अल्लाह के द्वारा पवित्रता का उल्लंघन नहीं किया और उन्होने अल्लाह की खातिर इसका बदला लिया।

 

उनका अभ्यास यह था कि जब भी उन्हे दो चीजों के बीच चयन करना होता, तो वह आसान को चुनते, जब तक कि वह पाप हो; और अगर यह एक पाप था तो वह इसे सबसे दूर रखते "(मुसनद अहमद) हदरत अनस कहते हैं:" मैंने दस साल तक पैगंबर (स।अ।व) की सेवा की। उनहोने कभी भी इतना कुछ नहीं किया जितना मैंने किया या कहा: यहाँ तक कि मैंने जो किया था, वह कभी नहीं पूछा, और यह कभी नहीं पूछा कि मैंने जो नहीं किया था वह क्यों नहीं किया। ”(बुखारी, मुस्लिम)

 

(तो रसूल ये भी) ख़ुदा की एक मेहरबानी है कि तुम (सा) नरमदिल (सरदार) उनको मिला और तुम अगर बदमिज़ाज और सख़्त दिल होते तब तो ये लोग (ख़ुदा जाने कब के) तुम्हारे गिर्द से तितर बितर हो गए होते बस (अब भी) तुम उनसे दरगुज़र करो और उनके लिए मग़फे़रत की दुआ मांगों और (साबिक़ दस्तूरे ज़ाहिरा) उनसे काम काज में मशवरा कर लिया करो (मगर) इस पर भी जब किसी काम को ठान लो तो ख़ुदा ही पर भरोसा रखो (क्योंकि जो लोग ख़ुदा पर भरोसा रखते हैं ख़ुदा उनको ज़रूर दोस्त रखता है (कुरान 3: 159)

और ( रसूल) हमने तो तुमको सारे दुनिया जहाँन के लोगों के हक़ में  रहमत बनाकर भेजा (कुरान 22:107)

दोनों ही मामलों में इसका मतलब यह होगा कि पैगंबर की नियुक्ति वास्तव में पूरी दुनिया के लिए अल्लाह का आशीर्वाद और दया है। इसका कारण यह है कि उसने उपेक्षित दुनिया को उसकी विषमता के बारे में बताया और उसे सत्य और असत्य के बीच की कसौटी का ज्ञान दिया, और इसे मुक्ति के तरीकों से बहुत स्पष्ट रूप से चेतावनी दी। बर्बाद। इस तथ्य को यहां 'मक्का के अविश्वासियों को बताने के लिए कहा गया है कि वे पवित्र पैगंबर के अपने अनुमान में काफी गलत थे कि वह उनके लिए एक दुःख और तकलीफ थी क्योंकि उन्होंने कहा, "इस आदमी ने अपने कुलों और के बीच त्याग का बीज बोया है और एक दूसरे से रिश्तेदारों के पास अलग हो गए। " उन्हें यहाँ कहा गया है, "हे मूर्ख लोगों, तुम यह मान लेना गलत है कि वह तुम्हारे लिए एक दुःख है, लेकिन वह वास्तव में तुम्हारे लिए अल्लाह की आशीर्वाद और रहमत है।"

 

ईमान वाले की  की एक विशेषता यह है कि वह दूसरों के साथ हो जाता है और दूसरे उसके साथ सहज महसूस करते हैं। उसे लोग पसंद करते हैं अगर वह ऐसा नहीं है, तो वह संदेश देने या कुछ भी हासिल करने में सक्षम नहीं होगा। जो कोई भी उस जैसा है, उसमें कोई अच्छाई नहीं है, जैसा कि हदीस में है:

" ईमान वाले लोगों के साथ हो जाता है और वे उसके साथ सहज महसूस करते हैं। जो व्यक्ति लोगों के साथ नहीं मिलता है और जिसके साथ वे सहज महसूस नहीं करते हैं, उसमें अच्छाई नहीं होती है।" (अहमद और अल-बाजार द्वारा रिपोर्ट की गई, अहमद के इस्नाद के आदमी रिजाल-साहिह हैं)

पैगंबर (स।अ।व) लोगों के प्रति अच्छे व्यवहार का सर्वोच्च उदाहरण निर्धारित करते हैं। वह अपने दिलों को नरम करने में निपुण थे और उन्हें वचन और कर्म में उनका पालन करने के लिए कहते थे। उन्होंने लोगों के दिलों तक पहुंचने और उनके प्यार और प्रशंसा को जीतने का प्रदर्शन किया।

 

वह हमेशा हंसमुख और सहज था, कभी कठोर नहीं। जब वह किसी सभा में आता था, तो जहाँ कहीं भी खाली जगह होती थी, वहाँ बैठ जाता था, और वह दूसरों को भी ऐसा करने के लिए कहता था। उन्होंने सभी के साथ समान व्यवहार किया, ताकि जो कोई सभा में मौजूद था, उसे ना लगे कि किसी और को तरजीह दी जा रही है अगर कोई उसके पास आता और कुछ मांगता, तो वह उसे दे देता, या कम से कम तरह के शब्दों के साथ जवाब देता। उनका अच्छा रवैया सभी के लिए बढ़ा और वह उनके लिए एक पिता की तरह थे। उनके आस-पास जमा हुए लोग वास्तव में बराबर थे, केवल उनके तकवा के स्तर से अलग। वे विनम्र थे, अपने बुजुर्गों का सम्मान करते थे, युवा लोगों पर दया करते थे, जरूरतमंद लोगों को प्राथमिकता देते थे और अजनबियों की देखभाल करते थे।

 

हदीस - बुखारी की पुस्तक आदाब #271, अबू दाऊद, तिर्मिधि, अहमद, और इब्न हिब्बान: अबू दर्दा ने बताया कि अल्लाह के पैगंबर ने कहा कि शांति हो, उन्होंने कहा, "कुछ भी अच्छे काम करने वालों की तुलना में कामों के पैमाने पर कम नहीं है।"

 

हदीस - बुखारी की पुस्तक आदाब #286 और अहमद

अबू हुरैरा (रज़ियल्लाहु अन्हु) ने कहा, "मैंने अबू अल कासिम (पैगंबर स।अ।व) को सुना, कहते हैं, इस्लाम में आप में सबसे अच्छे वह हैं जिनका सबसे अच्छा आदाब /किरदार हैं, जब तक वे समझ की भावना विकसित करते हैं।"

 

हदीस--तबारैनी ने इसे एकत्र किया, और अल्बानी ने इसे सिलसिलातुल-एहादेथिस-साहेह (# 432) में प्रमाणित किया।

पैगंबर (स।अ।व) ने कहा: "अल्लाह के सेवकों में सबसे प्रिय सबसे अच्छे आदाब /किरदार वाले हैं।"

 

हदीस - बुखारी की पुस्तक आदाब #285, हकीम, और अबू दाउद ... अबू हुरैरा (र।अ) ने कहा कि अल्लाह के पैगंबर (स।अ।व) ने कहा, "यदि किसी के पास अच्छे शिष्टाचार/ किरदार हैं, तो व्यक्ति योग्यता के समान स्तर प्राप्त कर सकता है। "जो नमाज में अपनी रातें बिताते हैं।

 

हदीस - बुखारी की पुस्तक आदाब #290, तिर्मिधि, इब्न माजा, और अहमद... अबू हुरैरा (र।अ) ने बताया कि अल्लाह के पैगंबर (स।अ।व) ने कहा, "और क्या लोगों को स्वर्ग में भेजने की संभावना है? अल्लाह के प्रति जागरूक होना और अच्छे आदाब /किरदार ।