Monday, June 8, 2020

Do not Flaunt Mistakes

दूसरों के दोषों को मत इठलाओ

एक बार जब अल-किसाई और बादशाह शासक अर-राशिद के सामने इकट्ठा हुए थे, तब मग़रिब नमाज़ का समय था, और उन्हें नमाज़ का नेतृत्व करने के लिए उनमें से किसी को चुनना था। यह एक मुश्किल विकल्प नहीं था, अल किसई कुरान का एक प्रसिद्ध पढ़नेवालो मे से था: : इस दिन तक, वह सात प्रसिद्ध पढ़नेवालो में से एक के रूप में जाना जाता है। नमाज शुरू होने के बाद और कुरान के "सूरए फातेहा" को पढ़ने के बाद, अल-किसाई ने फिर "अल काफिरून" कि सुरह पढ़ि:

( रसूल) तुम कह दो कि काफिरों (1)

तुम जिन चीज़ों को पूजते हो, मैं उनको नहीं पूजता (2)

और जिस (ख़ुदा) की मैं इबादत करता हूँ उसकी तुम इबादत नहीं करते (3)

और जिन्हें तुम पूजते हो मैं उनका पूजने वाला नहीं (4)

और जिसकी मैं इबादत करता हूँ उसकी तुम इबादत करने वाले नहीं (5)

तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन मेरे लिए मेरा दीन (6)

हालाँकि यह कुरान के सबसे छोटे अध्यायों में से एक है और जो कि ज्यादातर छोटे बच्चों द्वारा याद किया जाता है, अल किसाई ने इस सुरह में गलती की। जब नमाज खत्म हो गई, तो अल-यज़ीदी ने बहुत आश्चर्य व्यक्त किया, पढ़नेवाला और कूफ़ा के इमाम भ्रमित हो गए, गलती करना और भूल जाना 'सूरह अल काफिरून!'

जब बाद में रात में ईशा कि नमाज पढ़ने का समय आया, तो अल-यजीदी ने इंतजार नहीं किया, बल्कि खुद नमाज पढ़ानै के लिये आगे बढ़ गये। जैसे ही नमाज शुरू हुई, उसकी आवाज कांपने लगी और वह कुरान के उस सूरह को भूल गया, जो सभी को याद रखना आसान है, "सूरए फातेहा":

शुरू करता हूँ ख़ु़दा के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है (कुरान 1:1) 

जब नमाज समाप्त हो गई, तो अल-किसाई ने बादशाह की ओर रुख किया और कहा,

"अपनी जीभ पर काबू रखो और बोलो मत, वरना आपको परीक्षण के लिए रखा जाएगा।

वास्तव में, यह आजमाइश  दी जाती है कि जब वह अपना मुंह खोलेगा तो उसे परीक्षण के लिए रखा जाएगा। 

(जो दुसरो की बुराई करते और और उन्हें कमतर दिखने के कोशिश करते )


No comments:

Post a Comment