Thursday, May 21, 2020

Jalan Hassad Ek Dil Ki Bimari

 

हसद इर्षा जलन दिल का रोग

अपने दिल की रक्षा ...

पैगंबर मुहम्मद {स।अ।व} ने कहा:

शरीर में, मांस का एक टुकड़ा है; यदि यह साफ़ है, तो पूरा शरीर साफ़ है और यदि यह भ्रष्ट है, तो पूरा शरीर भ्रष्ट है, और यकीनन यह दिल है।

[साहिह मुस्लिम: पुस्तक २२, हदीस १३३]

 

हदीस में पैगंबर (स।अ।व) ने कहा: "तीन लोग जिनकी दुआ (दुआ) स्वीकार नहीं की जाएगी: वह जो हराम (निषिद्ध) को खाता है, वह जो पीठ पिछे चुगली करता है; और वह जिसके दिल में दुश्मनी है या ईर्ष्या करता मुसलमानो से।"

 

तिर्मिदी में अल-जुबैर इब्न अल-आवाम ने कहा कि पैगंबर (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने कहा:

तुम्हारे सामने राष्ट्रों का रोग आया है, ईर्ष्या और द्वेष। यह 'शेवर' (विध्वंसक) है; मैं यह नहीं कहता कि यह बालों को विध्वंसक करता है, लेकिन यह विश्वास को नष्ट कर देता है...”

[(हसन) जमी--तिर्मिदे (2434)]

 

हदीस में, अनस इब्न मलिक (R.A) ने बताया: "जब हम नबी (...) के साथ बैठे थे, तो उन्होंने हमें सूचित किया कि जो आदमी जन्नती है, वह उस दरवाजे से आएगा।' तब अनसर का एक आदमी दिखाई दिया, जिसकी दाढ़ी अभी भी अपने वुधु के पानी से टपक रही थी, और वह अपने बाएं हाथ में अपने जूते पकड़े हुए था। अगले दिन, नबी (...) ने हमें फिर वहि बात बतायि, और फिर से वही आदमी दिखाई दिया। तीसरे दिन फिर वहि घटना हुई। जैसे हि नबी (स।अ।व) गए , अब्दुल्ला इब्न ओमर (र।अ) ने उस आदमी का घर पर पीछा किया और उससे कहा कि मैंने अपने पिता के साथ बहस की है और कसम खाई है कि मैं तीन दिनों तक वापस नहीं आऊंगा। क्या आप मुझे इन तीन दिनों के लिए जगह दे सक्ते हैं? 'आदमी सहमत हो गया, और बाद में, अब्दुल्लाह ने हमें सूचित किया कि जब वह उस आदमी के साथ था, तो वह साधारण से बाहर कुछ भी नहीं था: असल में, वह उनके काम से लगभग नाखुश थे। अब्दुल्ला ने आगे टिप्पणी की कि तीन दिनों के बीतने के बाद, उन्होंने उस आदमी को असली कारण समझाया कि वह वहां क्यों था, और नबी (स।अ।व) के शब्दों को दोहराया। फिर उन्होने उनसे किसी विशेष चीज़ के बारे में पूछा जिससे उन्हें ऐसा दर्जा मिला होगा। उस आदमी ने जवाब दिया: 'कुछ खास नहीं वहि जो आपने देखा वहि है!' जैसा हि वह जाने लगे, आदमी ने उन्हे वापस बुलाया और कहा: 'यह वही है जो तुमने देखा है सिवाय इसके कि मेरे दिल में कोई धोखा या जलन नहीं  है किसी भी मुसलमान के प्रति किसी भी इनाम के लिए जो अल्लाह ने उन्हें दिया है। 'अब्दुल्ला ने कहा:' तो फिर यही  है जिस्कि वजह से आपको यह दर्जा दिया गया है।"

 

अबू हुरैरा (राधिअल्लाहु अन्हु) ने सुनाया: अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने कहा, "अल्लाह तुम्हारी शारीरिक गठन को नहीं देखता, तुम्हारी पोशाक को, पर बल्कि वह तुम्हारे दिल [और कामों] को देखता है।"

[मुस्लिम]

 

लोगों हमने तो तुम सबको एक मर्द और एक औरत से पैदा किया और हम ही ने तुम्हारे कबीले और बिरादरियाँ बनायीं ताकि एक दूसरे की शिनाख़्त करे इसमें शक नहीं कि ख़ुदा के नज़दीक तुम सबमें बड़ा इज़्ज़तदार वही है जो बड़ा परहेज़गार हो बेशक ख़ुदा बड़ा वाकि़फ़कार ख़बरदार है.

(अल-हुजुरत 49:13)

 

सबसे महत्वपूर्ण बात: हमेशा अपने दिल में उपस्थित रहें, इसे लगातार साफ़ होने तक धोएं।

 

जलन का मतलब

 

जलन का अर्थ यह है कि मनुष्य की इच्छा है कि उसके  भाई से एक आशीर्वाद/ इनाम हटाया जाइ , हालांकि वह जानता है कि इनाम वास्तविक हक़दार है

अबू हमजा अनस बिन मलिक, (रजी अल्लाहु अन्हु), जो अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के सेवक थे, ने बताया कि पैगंबर, (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने कहा: "आप में से कोई भी वास्तव में वि  ईमानवाला  नहीं है ( अल्लाह और उसके धर्म में) जब तक वह अपने भाई के लिए वह पसन्द करता है जो वह अपने लिए पसन्द करता है "

[अल-बुखारी और मुस्लिम]

 


No comments:

Post a Comment