Saturday, May 30, 2020

Allah Hame Maaf Kar De

ओह अल्लाह सबसे महत्वपूर्ण और सबसे दयालु हमें हमारे पाप के लिए क्षमा करता है।

"परवरदिगार बेशक तू बड़ा शफीक़ निहायत रहम वाला है" [कुरान 59:10]
"हमारे परवरदिगार अगर हम भूल जाऐं या ग़लती करें तो हमारी गिरफ़्त न कर" [कुरान 2:286]
"ऐ हमारे पालने वाले (ख़ुदा) हमने तुझी पर भरोसा कर लिया है और तेरी ही तरफ़ हम रूजू करते हैं" [कुरान 60:4]
"और तेरी तरफ़ हमें लौट कर जाना है ऐ हमारे पालने वाले तू हम लोगों को काफि़रों की आज़माइश (का ज़रिया) न क़रार दे और परवरदिगार तू हमें बख़्ष दे बेशक तू ग़ालिब (और) हिकमत वाला है" [कुरान 60:5]
"परवरदिगार हमारे लिए हमारा नूर पूरा कर और हमं बख्श दे बेशक तू हर चीज़ पर क़ादिर है" [कुरान 66:8]
"और उसी ने आसमान बुलन्द किया और तराजू (इन्साफ़) को क़ायम किया"
"और ईन्साफ़ के साथ ठीक तौलो और तौल कम न करो"
[कुरान 55:7, 55:9]

अल्लाह ने इस दुनिया को संतुलन और न्याय में बनाया है लेकिन हमारे कामों ने इसे गड़बड़ कर दिया है। ये कर्म व्यक्तिगत जीवन, हमारे सामाजिक व्यवहार और हमारी आर्थिक और राजनीतिक गतिविधियों से भिन्न होते हैं। यदि हम देखते हैं कि वित्तीय संकट दुनिया में है, तो यह बहुत स्पष्ट उदाहरण है "। आज लोग जोखिम/नुकसान  को स्थानांतरित करना चाहते हैं, यह कभी भी काम नहीं करेगा। हम जो" वित्तीय संकट "में हैं, वह अंततः जोखिम/नुकसान  को साझा नहीं करने, बल्कि इसे स्थानांतरित करने का परिणाम है। दूसरे के लिए। यह इसलिए है क्योंकि हमने अपनी सीमाएं संतुलन और न्याय पर स्थानांतरित कर दी हैं। यदि हम बदलना चाहते हैं, तो हमें अपने जीवन को बदलने के लिए समग्र दृष्टिकोण की आवश्यकता है, और फिर दुनिया में केवल न्याय और शांति आ सकती है। यदि हम इस दुनिया को बदलना चाहते हैं। , यह पहले से ही आना चाहिए।
"तेरे सिवा कोई माबूद नहीं तू (हर ऐब से) पाक व पाकीज़ा है बेशक मैं कुसूरवार हूँ" [कुरान 21:87]
ऐ अल्लाह, तू रब्बुल आलमीन है, तू कायम है और सबसे रहमदिल है, हमें माफ़ कर दे, ज़रूर हम गुनह्गार हैं। सारी दौलत जो धरती के नीचे है और उससे ऊपर है वह सब आप के पास है और हम सब आपके पास वापस आ जाएंगे।

ऐ अल्लाह! मेरे दोषों को, मेरे अज्ञान को, मेरे मामलों में किसी भी तरह की अधिकता को क्षमा करें और जिसमें आपको मुझसे अधिक ज्ञान है। ऐ अल्लाह! मेरे पापों को माफ़ कर दो, जो गलती से हुए, जो जानबूझकर किए गए और वो सारी कमियाँ जो मेरे भीतर हैं।

"ये दोनों अर्ज़ करने लगे ऐ हमारे पालने वाले हमने अपना आप नुकसान किया और अगर तू हमें माफ न फरमाएगा और हम पर रहम न करेगा तो हम बिल्कुल घाटे में ही रहेगें" [कुरान 7:23]
इसपर वे बोले, "हमने अल्लाह पर भरोसा किया। ऐ हमारे रब! तू हमें अत्याचारी लोगों के हाथों आज़माइश में न डाल। (85)  (कुरान 10:85)
"और अपनी रहमत से हमें इन काफि़र लोगों (के नीचे) से नजात दे" [कुरान 10:86]

जो कहते हैं कि "ऐ हमारे रब! जहन्नम की यातना को हमसे हटा दे।" निश्चय ही उसकी यातना चिमटकर रहनेवाली है।(कुरान 25:65)
निश्चय ही वह जगह ठहरने की दृष्टि से भी बुरी है और स्थान की दृष्टि से भी।  (कुरान 25:66)
"और बेशक हमने फिरौन के लोगों को बरसों से कहत और फलों की कम पैदावार (के अज़ाब) में गिरफ्तार किया ताकि वह इबरत हासिल करें" [कुरान 7:130]
तब हमने उन पर (पानी को) तूफान और टिड़डियाँ और जुए और मेंढ़कों और खून (का अज़ाब भेजा कि सब जुदा जुदा (हमारी कुदरत की) निषानियाँ थी उस पर भी वह लोग तकब्बुर ही करते रहें और वह लोग गुनेहगार तो थे ही (कुरान 7:133)
"और (लूत को हमने रसूल बनाकर भेजा था) जब उन्होनें अपनी क़ौम से कहा कि (अफसोस) तुम ऐसी बदकारी (अग़लाम) करते हो कि तुमसे पहले सारी ख़़ुदाई में किसी ने ऐसी बदकारी नहीं की थी" (कुरान 7:80)
"हाँ तुम औरतों को छोड़कर शहवत परस्ती के वास्ते मर्दों की तरफ माएल होते हो (हालाकि उसकी ज़रूरत नहीं) मगर तुम लोग कुछ हो ही बेहूदा" [कुरान 7:81]
"और हमने उन लोगों पर (पत्थर का) मेह बरसाया-पस ज़रा ग़ौर तो करो कि गुनाहगारों का अन्जाम आखिर क्या हुआ" (कुरान 7:84)

"हम यक़ीनन इसी बस्ती के रहने वालों पर चूँकि ये लोग बदकारियाँ करते रहे एक आसमानी अज़ाब नाजि़ल करने वाले हैं" (कुरान 29:34)
"और हमने यक़ीनी उस (उलटी हुयी बस्ती) में से समझदार लोगों के वास्ते (इबरत की) एक वाज़ेए व रौशन निशानी बाक़ी रखी है" (कुरान 29:35)
हम आपके संसाधनों, खनिजों, तेल, गैस और उन सभी चीजों का उपयोग और दोहन करते हैं जो पृथ्वी के नीचे और पृथ्वी के ऊपर है, जंगल, समुद्र और पानी में हैं। लेकिन गरीबों को भूख और मौत से पीड़ित बनाते हैं।

गरीबी बढ़ रही है

[कुरान 107: 1-7] 
क्या तुमने उस शख़्स को भी देखा है जो रोज़ जज़ा को झुठलाता है (1)
ये तो वही (कम्बख़्त) है जो यतीम को धक्के देता है (2)
और मोहताजों को खिलाने के लिए (लोगों को) आमादा नहीं करता (3)
तो उन नमाजि़यों की तबाही है (4)
जो अपनी नमाज़ से ग़ाफिल रहते हैं (5)
जो दिखाने के वास्ते करते हैं (6)
और रोज़ मर्रा की मालूली चीज़ें भी आरियत नहीं देते (7)

विकास के अंत में गरीबी
एक अन्य व्यक्ति जो पुनर्विचार से इनकार करते हैं, वह यह है कि वे गरीबों और जरूरतमंदों को भोजन नहीं देते हैं और एक दूसरे से समाज के असहाय लोगों की मदद करने का आग्रह नहीं करते हैं। जिन मुसलमानों के पास साधन हैं उन्हें गरीबों और जरूरतमंदों को खिलाने और एक दूसरे को उनकी मदद करने के लिए प्रोत्साहित करने की आज्ञा दी गई है।
समाज के कमजोर सदस्यों की मदद करने के महान गुणों का वर्णन करते हुए, पैगंबर ने कहा: "जो एक विधवा या जरूरतमंद व्यक्ति की देखभाल करता है वह एक मुजाहिद (सेनानी) की तरह है जो अल्लाह के कारण के लिए लड़ता है, या जैसे जो सभी प्रार्थना करते हैं रात और पूरे दिन का उपवास। ” [अल-बुखारी द्वारा सुनाई गई]

भोजन दंगे
और अल-म'उन (छोटी दयालुता) को रोकें
इस आयत का मतलब यह है कि जो लोग आख़िरत से इनकार करते हैं, वे अल्लाह की अच्छी तरह से पूजा नहीं करते हैं, और न ही वे उनकी रचना को अच्छी तरह मानते हैं। वे यह भी उधार नहीं देते हैं कि दूसरों को किससे लाभ हो सकता है और उनके द्वारा मदद की जा सकती है, भले ही वह वस्तु बरकरार रहेगी और उन्हें लौटाया जाएगा (जैसे एक कुल्हाड़ी, एक बर्तन, एक बाल्टी और इसी तरह की वस्तुएं)। ये लोग ज़कात (अनिवार्य दान) और विभिन्न प्रकार के दान देने की बात करते हैं, जो अल्लाह के करीब लाति हैं। [तफ़सीर इब्न कथिर]

[कुरान 39:51] "ग़रज़ उनके आमाल के बुरे नतीजे उन्हें भुगतने पड़े और उन (कुफ़्फ़ारे मक्का) में से जिन लोगों ने नाफरमानियाँ की हैं उन्हें भी अपने अपने आमाल की सज़ाएँ भुगतनी पड़ेंगी और ये लोग (ख़ुदा को) आजिज़ नहीं कर सकते"
[कुरान 39:52] "क्या उन लोगों को इतनी बात भी मालूम नहीं कि ख़ुदा ही जिसके लिए चाहता है रोज़ी फराख़ करता है और (जिसके लिए चाहता है) तंग करता है इसमें शक नहीं कि क्या इसमें इमानदार लोगों के (कुदरत की) बहुत सी निशानियाँ हैं"

ये विश्वास करने वाले लोगों के लिए सबक हैं। पहला धन भी मानव जाति की प्रकृति के लिए बहुत आकर्षक है, इस प्रकार हर आदमी धन रखने के लिए उकसाता है जैसा कि अल्लाह कहता है,
 "दुनिया में लोगों को उनकी मरग़ूब चीज़े (मसलन) बीवियों और बेटों और सोने चाँदी के बड़े बड़े लगे हुए ढेरों और उम्दा उम्दा घोड़ों और मवेशियों ओर खेती के साथ उलफ़त भली करके दिखा दी गई है ये सब दुनयावी जि़न्दगी के (चन्द रोज़ा) फ़ायदे हैं और (हमेशा का) अच्छा ठिकाना तो ख़ुदा ही के यहां है" [कुरान 3:14]
मनुष्यों को चाहत की चीज़ों से प्रेम शोभायमान प्रतीत होता है कि वे स्त्रियाँ, बेटे, सोने-चाँदी के ढेर और निशान लगे (चुने हुए) घोड़े हैं और चौपाए और खेती। यह सब सांसारिक जीवन की सामग्री है और अल्लाह के पास ही अच्छा ठिकाना है। (14)  
गरीबों को खाना खिलाएं, उनकी मदद करें और आप बेहतर होंगे

चेतावनी: - सीमाओं के पार अत्याचार मत करो, उत्पीड़न, शोषण, अन्याय यहाँ और उसके बाद दंडित किया जाएगा। जो ताकतवर इस दुनिया में संतुलन को नष्ट करने के लिए उन पर धन का उपयोग कर रहे हैं और गरीब लोगों के जीवन में भूख है और अन्याय को दंडित किया जाएगा। यह आर्थिक या पारिस्थितिक हो सकता है।

No comments:

Post a Comment